रुपयों व जरूरी कागजातों से भरा बटुआ लौटा कर मिसाल कायम किया गार्बेज कलेक्टर ने

रुपयों व जरूरी कागजातों से भरा बटुआ लौटा कर मिसाल कायम किया गार्बेज कलेक्टर ने

The Voice of Chandigarh News | Photo By T S Bedi
दुनिया में ऐसे हजारों लोग मिल जाएंगे जो बिना मेहनत दूसरों के पैसों लूट कर या बईमानी कर ऎश करना चाहते है पर शहर में एक गार्बेज कलेक्ट करने वाले बलविंदर ने हज़ारों रुपयों व जरूरी कागजातों से भरा बटुआ सही मालिक को लौटा कर मिसाल कायम करते हुए एक बार फिर साबित कर दिया कि ईमानदारी अभी जिन्दा है।
प्राप्त विवरण के मुताबिक़ ये बटुआ सेक्टर 28 की आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी के इंचार्ज व आयुष मिशन के नोडल इंचार्ज डॉ. राजीव कपिला का था जो उस समय कहीं गिर गया जब वे सोमवार को अपनी सरकारी गाडी की बजाये साईकिल द्वारा सेक्टर 22 स्थित अपने निवास से डिस्पेंसरी को जा रहे थे। ऑफिस पहुँच कर उन्होंने पाया कि पेंट की पिछली जेब से उनका बटुआ नदारद है तो उन्होंने दो बार उसी रस्ते से घर तक अपने कर्मचारी के गाडी से दौड़ लगाई परन्तु बटुआ नहीं मिला। बटुए में लगभग 14 हज़ार रूपए नगद के अलावा कई जरूरी कागजात थे परन्तु ऐसा कोई कार्ड या अन्य कागज़ नहीं था जिससे बटुआ पाने वाला उनसे संपर्क कर पाता। अचानक उन्हें समाजसेवी व सेक्टर 27 की आरडबल्यूए (रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन) की पूर्व प्रधान व अब सलाहकार शिखा निझावन का फ़ोन आया। जिन्होंने उनसे बटुआ गुम होने के बारे में पूछा तो डॉ. कपिला ने पुष्टि कर दी व डिस्पेंसरी बुला लिया।
शिखा निझावन ने जानकारी देते हुए बताया कि उनके क्षेत्र में गार्बेज कलेक्शन का काम करने वाले बलविंदर, सपुत्र भूप सिंह, को ये बटुआ सेक्टर 27-डी की मार्किट के सामने मुख्य सड़क पर मिला था परन्तु इसमें कोई पता आदि ना होने के कारण उसने ये बटुआ उन्हें सौंप दिया। काफी मगज-पच्ची के बाद एक नं. मिला जिससे बटुए के असली मालिक का पता लग सकें। इंदिरा कॉलोनी निवासी बलविंदर के घर में माँ-बाप व पत्नी के अलावा दो बेटे व एक बेटी है तथा अकेला बलविंदर ही कामकाजी है। उसकी ईमानदारी से प्रभावित होकर डॉ. कपिला व शिखा निझावन ने उसे सम्मानित किया व नगद इनाम देकर उनकी ईमानदारी के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया।
No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.