हाइकोर्ट से विधायक के भांजे अमित गुप्ता की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

हाइकोर्ट से विधायक के भांजे अमित गुप्ता की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

-अश्लील वीडियो ग्रुप्स में डालने पर रद्द हुई याचिका

-एडवोकेट उदित महेंदीरत्ता ने कोर्ट में याचिका का विरोध किया

The Voice of Chandigarh News

भाजपा के विधायक ज्ञान चंद गुप्ता के भांजे अमित गुप्ता की अग्रिम जमानत याचिका सोमवार को पंजाब एवं हरियाणा हाइकोर्ट से भी खारिज हो गई। इससे पूर्व पंचकूला के अतिरिक्त सैशन जज कोर्ट राजन वालिया ने याचिका खारिज कर दी थी। हाइकोर्ट में अमित गुप्ता की याचिका का एडवोकेट उदित महेंदीरत्ता ने जमकर विरोध किया। अभियोजन पक्ष की ओर से एडवोकेट करण खेर और धवल आहलुवालिया ने भी कोर्ट में विरोध जताया। हाइकोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद इस मामले में हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस की वरिष्ठ उपप्रधान रंजीता मेहता ने कहा कि अब बिल्कुल स्पष्ट हो चुका है कि पुलिस जानबूझकर अमित गुप्ता को गिरफ्तार नहीं कर रही है और उसे पूरी तरह भाजपा का संरक्षण प्राप्त है। रंजीता मेहता ने कहा कि पुलिस ने यदि दो दिन के अंदर अमित गुप्ता को गिरफ्तार नहीं किया, तो महिला कांग्रेस द्वारा सीएम के पुतले फूंके जाएंगे।
यहां बता दें कि रंजीता मेहता ने पुलिस को शिकायत दी थी कि पंचकूला मंथन नामक एक ग्रुप में गत देर रात अमित गुप्ता नामक एक व्यक्ति ने 60 से 65 अश्लील वीडियो डाल दी थी। इसके बाद रात को ही जिसने यह वीडियो देखी, वह भडकऩे लगा। रंजीता मेहता ने बताया गया कि पंचकूला मंथन नामक ग्रुप में कई राजनीतिज्ञ, मीडिया पर्सन, ब्यूरोक्रेट्स एवं शहर के गणमान्य लोग हैं। अमित गुप्ता सेक्टर 11 में अंबिका मैडीकोज के नाम से दुकान चलाता है, साथ ही वह भारतीय जनता युवा मोर्चा का जिला उपप्रधान भी है। रंजीता मेहता ने शिकायत में दावा किया था कि अमित गुप्ता स्वयं को भाजपा के विधायक का रिश्तेदार भी बताता है। उन्होंने बताया कि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर यह अश्लील वीडियोस भेजी गई, उससे शहर के लोगों को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है, क्योंकि इस ग्रुप में कई महिलाएं भी हैं। इस मामले में पंचकूला पुलिस ने आइटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया था। इसके बाद अमित गुप्ता अंडरग्राउंड हो गया था। अमित गुप्ता ने कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की थी।
रंजीता मेहता ने कहा कि अमित गुप्ता द्वारा समाज में अश्लीलता फैलाने का काम किया है, इसलिए उन्हें तुरंत गिरफ्तार करके जेल भेजा जाना चाहिए। याचिका का कोर्ट में एडवोकेट उदित मेहंदीरत्ता ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि पंचकूला मंथन नामक अमित गुप्ता ने 60-65 अश्लील वीडियो जानबूझ कर डाली है। यह कोई ऑफ सीन वीडियो नहीं, बल्कि पोर्न वीडियो है। इसकी एडमिन महिला है और इसकी शिकायतकत्र्ता भी महिला है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद याचिका खारिज कर दी है।
No Comments Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published.